Christmas Wishes Message in Hindi || 25 दिसंबर को क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है और क्या है Christmas Day का महत्व?

Merry Christmas 2021

Christmas Wishes Message in Hindi

लो आ गया जिसका था इंतज़ार,
सब मिल कर बोलो मेरे यार,
दिसम्बर में लाया क्रिसमस बहार,
मुबारक हो तुमको क्रिसमस मेरे यार
जीवन में लाए खुशियां अपार,
सांता क्लॉज़ आए आपके द्वार। 
शुभकामना हमारी करें स्वीकार,
आया है क्रिसमस का यह प्यारा त्यौहार। 
देवदूत बनके कोई आएगा,
सारी आशाएं तुम्हारी, पूरी करके जायेगे,
क्रिसमस के इस शुभ दिन पर,
तौफे खुशियों के दे जायेगा!
क्रिसमस का ये प्यारा सा त्यौहार,
जीवन में लाए खुशियां अपार,
संता क्लॉज आए आपके द्वार,,
शुभकामनाएं हमारी करें स्वीकार..

Merry Christmas 2021

क्रिसमस का त्यौहार पूरी दुनिया में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाता है. सभी लोग इस दिन अपने घरों मे क्रिसमस ट्री को लाइट्स, गिफ़्ट, टॉफ़ी, आदि से सजाते हैं. क्रिसमस के दिन सभी लोग एक-दूसरे के साथ घूमते हैं ,पार्टी करते हैं तथा चर्च में जाकर प्रार्थना करते हैं. क्रिसमस डे (Christmas Day) के दिन बच्चे सैंटा क्लॉज का बड़ी बेसब्री से इंतजार करते हैंक्योंकि सैंटा क्लॉज बच्चों के लिए ढेर सारे उपहार लेकर आता है। सैंटा क्लॉज को एक देवदूत की तरह माना जाता है। लोगों के बीच धारणा यह है कि सैंटा बच्चों के लिए चॉकलेट, गिफ्ट सभी चीजें स्वर्ग से लाता  है और वापस वहीं चला जाता है।

 25 दिसंबर को ही क्रिसमस क्यों मनाते हैं? [History of Christmas Day]

History of Christmas Day : क्रिसमस जीसस क्रिस्ट के जन्म की खुशी में मनाया जाता है। जीसस क्रिस्ट को भगवान का बेटा कहा जाता है। क्रिसमस का नाम भी क्रिस्ट से पड़ा। बाइबल में उनके जन्म की कोई तारीख़ नहीं बताई गई है लेकिन फिर भी 25 दिसंबर को ही हर साल क्रिसमस मनाया जाता है। इस तारीख को लेकर कई बार विवाद भी हुआ। लेकिन 336 ई। पूर्व में रोमन के पहले ईसाई रोमन सम्राट के समय में सबसे पहले क्रिसमस 25 दिसंबर को मनाया गया। इसके कुछ सालों बाद पोप जुलियस ने आधिकारिक तौर पर जीसस के जन्म को 25 दिसंबर को ही मनाने का ऐलान किया और सार्वजनिक अवकाश की घोषणा कर दी गई 

क्रिसमस का महत्व  [Christmas Day Importance]

क्रिसमस का ये त्यौहार 26 दिसंबर तक चलता है.  ईसाई धर्म के लोगों के लिए जीज़स का जन्मदिन बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस दिन ईश्वर ने अपने पुत्र(नाजरेथ ) को धरती पर भेजा था. ईसाई धर्म के लोगों का मानना है कि इस दिन ईश्वर ने अपने पुत्र को पृथ्वी पर भेजा ताकि एक दिन यहां के भूत, भविष्य और वर्तमान के सभी पापों का बलिदान उसके रूप में दिया जा सके.इस दिन प्रभु ईशू को याद करके उनकी पूजा कि जाती है. क्रिसमस के दिन ईसा मसीह की प्रशंसा में कैरोल गया जाता हैं. वे प्‍यार व भाईचारे का संदेश देते हुए घर-घर जाते हैं. विदेशों में क्रिसमस से पहले ही लोगों और बच्चों की स्कूल, कॉलेज और ऑफिस से छुट्टियां कर दी जाती हैं.  

24 दिसंबर को लोग ईस्टर ईव मनाते हैं और 25 दिसंबर को घर और बाहर पार्टी करते हैं. 25 दिसंबर से शुरु होकर क्रिसमस का त्यौहार 5 जनवरी तक चलता है. यूरोप में 12 दिनों तक मनाए जाने वाले इस त्यौहार को Twelfth Night के नाम से भी जाना जाता है.

सैंटा क्लॉज़ का इतिहास? [Santa Claus History]

सैंटा क्लॉज़ नाम Saint Nicholas शब्द से निकला है. डच भाषा में इसे Sinter Klass कहा जाता है, यहां Sinter संत और Klass का मतलब Nicholas है. जब डच अमेरिका पहुंचे, तो वहां के लोगों ने Sinter Klass को सैंटा क्लॉज़ पुकारना शुरू कर दिया. इस तरह Saint Nicholas सैंटा क्लॉज़ बन गए. Saint Nicholas एक ग्रीक बिशप थे. वो लोगों के बीच अपनी दयालुता के लिए बहुत फ़ेमस थे.

पूरी दुनिया में क्रिसमस के दिन मोज़े में गिफ़्ट देने यानी सीक्रेट सैंटा(Secret Santa) बनने का रिवाज़ शुरू हुआ था. पूरी दुनिया में लोग ऑफ़िस और घरों में क्रिसमस पर सीक्रेट सैंटा का आयोजन करते हैं. इसमें वो अपने प्रियजनों को चुपके से सीक्रेट गिफ़्ट देकर ख़ुशियां बांटने की कोशिश करते हैं.

क्रिसमस ट्री के बारे मे. [About Christmas Tree]

क्रिसमस के दिन क्रिसमस ट्री(Christmas Tree) को सजाने का रिवाज़ है. 16वीं सदी में जर्मनी में भी क्रिसमस ट्री को सजाने का रिवाज मिलता है. क्रिसमस ट्री सदाबहार होता है और उसकी पत्तियां कभी मुरझाती नहीं हैं. इस पेड़ को काटकर लोग अपने घर में लाते हैं और कैंडी, चॉकलेट, रिबन, गिफ़्ट, लाइट्स, बेल्स से सज़ाते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.