UP Teacher Recruitment 2021: प्राइमरी स्कूलों में खुलेगा शिक्षक भर्ती का पिटारा, पूरी होगी शिक्षामित्रों की मुराद

सरकारी स्कूलों में शिक्षक भर्ती का इंतजार कर रहे युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी है। यूपी के प्राइमरी स्कूलों में सवा लाख से ज्यादा शिक्षकों की भर्ती पूरी करने के बाद योगी सरकार अब खाली पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू करने जा रही है। योगी सरकार की इस घोषणा से नई शिक्षक भर्ती का इंतजार कर रहे उन हजारों शिक्षामित्रों को बड़ी राहत मिलेगी जिन्हें पिछली भर्ती में जगह नहीं मिल सकी थी। सुप्रीम कोर्ट ने 69000 सहायक शिक्षक भर्ती में भले ही शिक्षामित्रों के हक में फैसला नहीं सुनाया था लेकिन, उन्हें एक और मौका दिए जाने का आदेश दिया है। यानी अगली भर्ती में शिक्षामित्रों को पहले की तरह वेटेज दिया जाएगा।

दरअसल, बेसिक शिक्षा विभाग ने 69000 शिक्षक भर्ती की शीर्ष कोर्ट में सुनवाई के दौरान हलफनामा दिया था कि विभाग में 51112 शिक्षकों के पद खाली हैं। शिक्षामित्रों के पक्ष में फैसला आने पर भर्ती पूरी होने के बाद भी नियुक्ति दी जाएगी। हालांकि फैसला शिक्षामित्रों के हक में नहीं आया। 68500 भर्ती में करीब 23 हजार पद खाली हैं। दोनों रिक्त पद जोड़कर योगी सरकार की सबसे अधिक पदों की भर्ती घोषित हो सकती है।

लखनऊ में 500 और 100 रुपये के जाली नोट के साथ सपा का जिला पंंचायत सदस्य गिरफ्तार, जानिए कैसे हुआ पर्दाफाशयह भी पढ़ें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों में खाली शिक्षक पदों का विवरण जुटाने और नए पद सृजन की जरूरतों की तलाश के लिए तीन सदस्यीय समिति को जिम्मेदारी दी है। चेयरमैन, राजस्व परिषद की अध्यक्षता में गठित इस कमेटी में सचिव, बेसिक शिक्षा और सचिव, बेसिक शिक्षा परिषद बतौर सदस्य शामिल होंगे। सीएम योगी के इस फैसले से नई भर्ती के लिए तैयारी कर रहे लाखों युवाओं को बड़ी राहत मिलेगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्कूलों में तैनात नए शिक्षकों की प्रतिभा का सही इस्तेमाल करने की जरूरत पर बल देते हुए शिक्षक-छात्र अनुपात को आदर्श रूप में बनाये रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालयों को सुदृढ़ करने के लिए राज्य सरकार द्वारा सतत नियोजित कदम उठाए जा रहे हैं। इस क्रम में विद्यालयों में आवश्यकतानुसार शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति के साथ-साथ नवीन पदों का सृजन भी की जानी चाहिए।

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में नियुक्तियों से पहले स्कूल-वार गहन अध्ययन की जरूरत बताते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने चेयरमैन राजस्व परिषद मुकुल सिंघल की अध्यक्षता में एक विशेष समिति गठित करने के निर्देश दिए। समिति में सचिव बेसिक शिक्षा अनामिका सिंह व सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रताप सिंह बघेल को सदस्य बनाया गया है। उन्होंने कहा कि यह समिति यथागीघ्र रिक्त पदों का अध्ययन कर अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करे। समिति की अनुशंसा के आधार पर नवीन नियुक्तियों की प्रक्रिया शुरू होगी। 

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी स्कूलों की 68500 भर्ती में पुनर्मूल्यांकन में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को नियुक्ति मिलने वाली है, इसके बाद यह शिक्षक भर्ती पूरी होने का ऐलान हो सकता है। इसी के साथ 69000 पदों की शिक्षक भर्ती तीन चरणों की काउंसिलिंग के बाद लगभग पूरी हो गई है। चयनित अभ्यर्थियों को अभी स्कूल आवंटित होने का इंतजार है। दोनों भर्तियों में करीब एक लाख 15 हजार से अधिक को नियुक्ति मिल चुकी है।

Author: Umesh Tiwari (Jagran News)

Leave a Reply

Your email address will not be published.