उ.प्र. के परिषदीय स्कूलों मे 1.75 करोड़ बच्चों को मिलेगा दो माह का खाद्यान्न और परिवर्तन मूल्य…

उ.प्र. के लगभग 72000 परिषदीय स्कूलों में नामांकित आठवीं तक के बच्चों को दो माह का खाद्यान्न मिलेगा। लॉकडाउन मे स्कूलबंदी के दौरान अक्टूबर और नवम्बर के मध्याह्न भोजन योजना का अनाज और उसी के समान धनराशि दी जाएगी। 

शिक्षा विभाग सचिव संजय कुमार ने जिला के सभी शिक्षा पदाधिकारियों को आदेश दिया है कि पात्र बच्चों को दो माह के एमडीएम का खाद्यान्न और परिवर्तन मूल्य की राशि उनके बैंक खाते में जल्द से जल्द हस्तांतरित की दिया जाय । अक्टूबर और नवम्बर माह में कुल 40 कार्य दिवसों के लिए पहली से आठवीं के सभी बच्चों को निर्धारित प्रति बच्चा अनाज और परिवर्तन मूल्य की राशि दी जाएगी। 

पहली से पांचवीं तक के बच्चों को प्रति दिन 100 ग्राम अनाज और 4.97 रुपए परिवर्तन मूल्य जबकि कक्षा 6 से आठ के प्रति बच्चा 150 ग्राम खाद्यान्न तथा 7.45 रुपए अनाज पकाने का पैसा निर्धारित है। प्रधान सचिव ने आदेश में कहा है कि निर्धारित मानव के मुताबिक दो माह के लिए पहली से पांचवीं तक के हर बच्चे को 4 किलो अनाज तथा 198 रुपए जबकि छठी से आठवीं तक के बच्चे को प्रति बच्चा 6 किलो अनाज और 298 रुपए दिया जाएगा।

यह राशि हर बच्चे के खाते में डीबीटी से स्थानांतरित की जाएगी जबकि खाद्यान्न विद्यालयों को वितरण कैलेंडर बनाकर बांटना है। अनाज को विद्यालय में कक्षावार अभिभावकों को बुलाकर वितरण किया जाएगा। जैसा कि राज्य में कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर सभी स्कूल 14 मार्च से ही बंद हैं लेकिन प्रारंभिक कक्षाओं में नामांकित सभी बच्चों को मध्याह्न भोजन का लाभ नियमित दिया जा रहा है। और इसके साथ ही रसोइयों का मानदेय वितरण भी हो रहा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.